मंगलवार, 1 दिसंबर 2015

आकांक्षा सक्सेना की दो कविताएं

 

आकांक्षा सक्सेना की दो कविताएं

 





1. गुमनाम आशियाना




















2. जिस्म की आवाज़
 


 









कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें